https://jpsonline.co.in/index.php/jop/issue/feed Journal of Palaeosciences 2022-12-30T15:36:05+0530 Editor editor.jps@bsip.res.in Open Journal Systems <p><span style="font-weight: 400;">The </span><span style="font-weight: 400;">Journal of Palaeosciences (previously published as The Palaeobotanist) is an international journal that has been disseminating knowledge and has served palaeobotanists worldwide for over 60 years with diversified and enhanced quality of content. It is an in-house journal of Birbal Sahni Institute of Palaeosciences, Lucknow, India. Since its inception in the year 1952 many thematic issues, proceeding volumes, and significant contributions have been published. Over the past two decades, the advancement in the techniques used in Palaeosciences, proxies, and software for climate and fossil studies have immensely increased and hence the journal was renamed to Journal of Palaeosciences (2021). Journal of Palaeoscineces is published bi-annually.</span></p> https://jpsonline.co.in/index.php/jop/article/view/1840 Carthamus L.: Origin, distribution and its archaeological records in India 2022-12-30T15:35:39+0530 Shalini Sharma sharma.bot19@gmail.com Anil K. Pokharia pokharia.anil@gmail.com Amish Kumar amishkumar@ramjas.du.ac.in Alka Srivastava sharma.bot19@gmail.com Ruchita Yadav sharma.bot19@gmail.com <p>This article reviews the current state of botanical and archaeological evidences that bears the origin, distribution, genetic diversity, and cultivation of the <em>Carthamus </em>sp. in the Indian subcontinent and other parts of the world. This review provides an important compendium of evidences for <em>Carthamus</em> and related species in different geographical locations of the world through the ages as well as in the modern era. The archaeological records so far indicate that <em>Carthamus </em>sp. was established in northwestern India during the chalcolithic culture around 3rd–2nd millennium BCE in Indian subcontinent and then distributed to the other regions. However, the origin and domestication of the crop has been recorded from the Middle East around ~4000 years ago. <em>Carthamus tinctorius</em> L. (safflower) is the cultivated representative of this genus and has great economic importance as it is used for making different varieties of oil or dyes, today and in the past.</p> <p><strong>सारांश</strong></p> <p>यह लेख वनस्पति और पुरातात्विक साक्ष्य की वर्तमान स्थिति जो कि भारतीय उपमहाद्वीप और दुनिया के अन्य भागों में <em>कार्थमस</em> एसपी की उत्पत्ति, वितरण, आनुवंशिक विविधता और खेती को धारण करने की समीक्षा करता है। यह समीक्षा युगों के साथ-साथ आधुनिक युग में दुनिया के विभिन्न भौगोलिक स्थानों में <em>कार्थमस</em> और संबंधित प्रजातियों के साक्ष्य का एक महत्वपूर्ण संग्रह प्रदान करती है। अब तक के पुरातात्विक आलेखों से संकेत मिलता है कि <em>कार्थमस</em> एसपी पश्चिमोत्तर भारत में तीसरी-दूसरी सहस्राब्दी ईसा पूर्व के आसपास चालकोलिथिक संस्कृति के दौरान भारतीय उपमहाद्वीप में स्थापित किया गया था और फिर अन्य क्षेत्रों में फैला। यद्यपि, लगभग 4000 वर्ष पूर्व मध्य पूर्व से फसल की उत्पत्ति को आलेखित किया गया है। <em>कार्थमस</em> <em>टिंक्टरियस</em> एल (कुसुम) इस जीनस का खेती वाला प्रतिनिधि है और इसका एक बड़ा आर्थिक महत्व है क्योंकि इसका उपयोग आज और अतीत में विभिन्न प्रकार के तेल या रंग बनाने के लिए किया जाता है।</p> 2022-12-30T00:00:00+0530 Copyright (c) 2022 Journal of Palaeosciences https://jpsonline.co.in/index.php/jop/article/view/1847 34th National Conference of the Indian Institute of Geomorphologists (IGI) 2022-12-10T12:57:13+0530 Sudhakar Pardeshi geographysppu@gmail.com Rajashree Chaudhari geographysppu@gmail.com 2022-12-30T00:00:00+0530 Copyright (c) 2022 Journal of Palaeosciences https://jpsonline.co.in/index.php/jop/article/view/1845 Report of the 73rd Annual Meeting & Symposium of The International Committee for Coal & Organic Petrology (ICCP 2022) 2022-11-18T13:12:39+0530 Runcie P. Mathews runciepaulmathews@gmail.com Neha Aggarwal neha_aggarwal@bsip.res.in Divya Mishra divya.mishra@bsip.res.in Vikram Partap Singh vikramchauhan09@rediffmail.com Ishwar Chandra Rahi rahi.ishwar@gmail.com Rimpy Chetia rimpy.bsrs@bsip.res.in Suraj Kumar suraj.kumar@bsip.res.in 2022-12-30T00:00:00+0530 Copyright (c) 2022 Journal of Palaeosciences https://jpsonline.co.in/index.php/jop/article/view/1848 International Conference on Advances in Sciences of the Earth: Relevance to the Society 2022-12-12T15:53:26+0530 Alok Kumar Mishra alokmishra.geo@gmail.com Ravi Shankar Maurya ravishankarmaurya94@gmail.com Sadhana Vishwakarma vishwakarmasadhana130@gmail.com 2022-12-30T00:00:00+0530 Copyright (c) 2022 Journal of Palaeosciences https://jpsonline.co.in/index.php/jop/article/view/1846 Journal of Palaeosciences: journal of the new era and newer multidisciplinary dimensions 2022-11-28T13:30:14+0530 JPS Team editor.jps@bsip.res.in 2022-12-30T00:00:00+0530 Copyright (c) 2022 Journal of Palaeosciences https://jpsonline.co.in/index.php/jop/article/view/538 Pollen morphological study in subfamily Papilionoideae using Confocal Laser Scanning Microscopy 2022-12-30T15:36:05+0530 Anjali Trivedi anjali_trivedi@bsip.res.in Alka Srivastava alka.srivastava72@gmail.com Anjum Farooqui afarooqui_2000@yahoomail.com Salman Khan khnslmn715@ymail.com Anil K. Pokharia pokharia.anil@gmail.com David K. Ferguson david.kay.ferguson@univie.ac.at Veeru Kant Singh veerukant_singh@bsip.res.in <p>The pollen morphological study was carried out in the subfamily Papilionoideae using Confocal Laser Scanning Microscopy (CLSM) to facilitate the identification of pollen in sedimentary archives. Pollen has long been used as an excellent proxy for understanding past vegetation, ecology, climate and agricultural strategies of ancient settlements and therefore, its identification at a specific level is of utmost importance. The modern pollen samples were retrieved from plants growing in urban and rural areas of Kanpur city, Uttar Pradesh, India. The cluster analysis and PCA of pollen morphological characters in the subfamily determine the generic and species relationships outlining the affinity of taxa in the subfamily Papilionoideae.</p> <p><strong>सारांश</strong></p> <p>तलछटी अभिलेखागार में पराग की पहचान के लिए कन्फोकल लेजर स्कैनिंग माइक्रोस्कोपी (सीएलएसएम) का उपयोग करते हुए उपपरिवार पैपिलिओनोइडी में पराग रूपात्मक अध्ययन किया गया। प्राचीन बस्तियों की पुरावनस्पति, पारिस्थितिकी, जलवायु और कृषि रणनीतियों को समझने के लिए पराग का लंबे समय से एक उत्कृष्ट प्रतिनिधि के रूप में उपयोग किया जा रहा है और इसलिए, एक विशिष्ट स्तर पर इसकी पहचान अत्यंत महत्वपूर्ण है। आधुनिक पराग के नमूने कानपुर, उत्तर प्रदेश के शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में उगने वाले पौधों से प्राप्त किए गए थे। क्लस्टर विश्लेषण और पराग रूपात्मक वर्णों का पीसीए उपपरिवार पैपिलिओनोइडी के टैक्सा की आत्मीयता को रेखांकित करते हुए जेनेरिक और प्रजाति संबंधों को निर्धारित करता है। </p> <p> </p> 2022-12-30T00:00:00+0530 Copyright (c) 2022 Journal of Palaeosciences https://jpsonline.co.in/index.php/jop/article/view/1284 Reconsideration of the Ediacaran problematicum Aulozoon 2022-12-30T15:35:57+0530 Gregory J. Retallack gregr@uoregon.edu <p><em>Aulozoon scoliorum</em> is best known from a single large slab from the Nilpena Member of the Rawnsley Quartzite of South Australia, representing an Ediacaran paleocommunity, including <em>Phyllozoon hanseni</em>, <em>Dickinsonia costata</em>, <em>Aspidella terranovica, Pseudorhizostomites howchini,</em> and <em>Somatohelix sinuosus</em>. The source of this slab in Bathtub Gorge is the surface of a thick red sandstone with pseudomorphs of gypsum desert roses, which is interpreted as a Gypsid paleosol of the Muru pedotype. On this “snakes and ladders slab” (nicknamed for snake–like <em>Aulozoon</em> and ladder–like <em>Phyllozoon</em>), four specimens of <em>Dickinsonia</em> are poorly preserved above rounded terminations of <em>Aulozoon</em>. <em>Aulozoon</em> also has been discovered in five other thin sections cut below <em>Dickinsonia</em> basal surfaces, and in one case it is attached to <em>Dickinsonia</em>. <em>Aulozoon</em> has a high width to thickness ratio (14 ± 0.7), even after accounting for burial compaction. Burrows this much wider than high are unknown and would be mechanically difficult for a burrower. Stronger objections to a burrow interpretation come from taper of <em>Aulozoon</em> to half its width and local lateral crimping. Unlike deep sea tube worms, animal or algal stolons, <em>Aulozoon</em> is not cylindrical and lacks a finished inside wall outline. Outer finished wall grading inwards to sandstone fill of <em>Aulozoon scoliorum</em> is most like a fungal rhizomorph with loose internal hyphae, and this biological interpretation is supported by growth within a paleosol with desert roses.</p> <p><strong>सारांश </strong></p> <p><em>औलोज़ून</em> <em>स्कोलियोरम</em> दक्षिण ऑस्ट्रेलिया के रॉन्सले क्वार्टजाइट के नीलपेना सदस्य से एक बड़े स्लैब से भलीभांति जाना जाता है और एक एडियाकरन पुरासमुदाय का प्रतिनिधित्व करता है, जिसमें <em>फ़िलोज़ून हैंसेनी</em>, <em>डिकिन्सोनिया कोस्टाटा</em>, <em>एस्पिडेला टेरानोविका</em>, <em>स्यूडोरहिज़ोस्टोमाइट्स हाउचिनी</em> और <em>सोमाटोहेलिक्स सिनुओसस</em> शामिल हैं। बाथटब गॉर्ज में इस स्लैब का स्रोत जिप्सम डिज़र्ट रोजेस के स्यूडोमोर्फ्स के साथ एक मोटे लाल बलुआ पत्थर की सतह है, जिसकी मुरु पेडोटाइप के जिप्सिड पेलियोसोल के रूप में व्याख्या की गई है। इस "साँप और सीढ़ी स्लैब" पर (साँप-जैसे <em>औलोज़ून</em> और सीढ़ी-जैसे <em>फ़िलोज़ून</em> के लिए उपनाम), <em>डिकिन्सोनिया</em> के चार नमूने <em>औलोज़ून</em> के गोल सिरे के ऊपर खराब रूप से संरक्षित हैं। <em>औलोज़ून</em> को पाँच अन्य थिन सेक्शन में भी खोजा गया है, <em>डिकिन्सोनिया</em> बेसल सतहों के नीचे, और एक मामले में यह <em>डिकिन्सोनिया </em>से जुड़ा हुआ है। संरक्षण संघनन के लिए लेखांकन के बाद भी <em>औलोज़ून</em> में मोटाई चौड़ाई का अनुपात (14± 0.7) अधिक है। ऊंचाई की तुलना में इतनी चौड़ी बर्रो अज्ञात हैं और बर्रो बनाने वाले के लिए यंत्रात्मक रूप से कठिन है। <em>औलोज़ून</em> के टेपर से इसकी आधी चौड़ाई और स्थानीय पार्श्व ऐंठन से एक बर्रो की व्याख्या के लिए प्रबल आपत्तियां हैं। गहरे समुद्र ट्यूब वर्म, जन्तु या शैवालीय स्टोलन के विपरीत, <em>औलोज़ून</em> बेलनाकार नहीं है, और आंतरिक भित्ति की पूर्ण रूपरेखा की कमी को दर्शाता है। <em>औलोज़ून स्कोलियोरम</em> के बलुआ पत्थर के अंदर की ओर बाहरी तैयार दीवार की ग्रेडिंग ढीले आंतरिक हायफी के साथ एक कवक राइज़ोमॉर्फ की तरह है, और यह जैविक व्याख्या एक पेलियोसोल के भीतर डिज़र्ट रोजेस के साथ वृद्धि द्वारा समर्थित है।</p> 2022-12-30T00:00:00+0530 Copyright (c) 2022 Journal of Palaeosciences https://jpsonline.co.in/index.php/jop/article/view/1838 Surface pollen quantification and floristic survey at Shaheed Chandra Shekhar Azad (SCSA) Bird Sanctuary, Central Ganga Plain, India: a pilot study for the palaeoecological implications 2022-12-30T15:35:48+0530 Swati Tripathi swati.tripathi@bsip.res.in Jyoti Srivastava jyoti.srivastava@bsip.res.in Arti Garg artibsi.garg@gmail.com Salman Khan salmangeo@bsip.res.in Anjum Farooqui afarooqui_2000@yahoo.com Mohd. Firoze Quamar mohdfiroze_quamar@bsip.res.in Biswajeet Thakur biswajeetthakur@gmail.com Parminder Singh Ranhotra parmindersingh_ranhotra@bsip.res.in Sadhan Kumar Basumatary sbasumatary2005@yahoo.co.in Anjali Trivedi anjali_trivedi@bsip.res.in Shilpa Pandey shilpa.pandey@bsip.res.in Krishnamurthy Anupama anupama.k@ifpindia.org S. Prasad prasad.s@ifpindia.org Navya Reghu navya.reghu@ifpindia.org <p>Accuracy of vegetation reconstruction portraying land cover of the past is based on a careful analysis of pollen production, dispersal and their quantitative deposition. The present attempt to integrate sampling of pollen–vegetation spectrum through Crackles Protocols for vegetation surveys, at three spatial zones with intervals of 0–10 m (A), 10–100 m (B) and 100–1000 m (C) at Shaheed Chandra Shekhar Azaad Bird Sanctuary in Uttar Pradesh with tropical dry deciduous forest, is a maiden approach. In these studies, the standard vegetation survey around the pollen surface sampling sites is prerequisite for quantifying pollen–vegetation relationship in modern analogues of the past. The underlying theory of this approach is based on the fact that the relative pollen productivity (RPP) is constant in space and time within a region or biome. The floristic survey of the sanctuary is integral to this pilot study, Crackles Bequest protocol, and is intrinsic to run the Extended R–Value (ERV) model for obtaining estimates of relative pollen productivities (RPPs) for quantitative palaeoecological interpretations from tropical to subtropical forest covers in northern India. The modern pollen assemblage from surface sediment samples established the dominance of Poaceae pollen, along with those of <em>Acacia, Albizia</em> and <em>Mimosa </em>species. The multivariate principal component analysis (PCA), applied to quantify the data on the survey of different vegetation communities revealed that out of the four identified vegetation communities, community D consisted of herbaceous patches including <em>Ageratum, Parthenium, Rumex, Tephrosia, Eclipta alba, Oxalis, Cannabis </em>and <em>Launea</em>, community B mainly comprised of tree taxa like <em>Terminalia, Barringtonia</em> and <em>Pongamia</em>, whereas the communities A and C represented mixed vegetation comprising of trees, shrubs and herbs. The present maiden analysis through the Crackles Bequest protocol method served as a preliminary step to establish the quantitative ‘pollen–based’ vegetation reconstruction in the Gangetic Plains of Central India and is expected to serve as a model for similar studies in other regions.</p> <p><strong>सारांश</strong></p> <p>अतीत के भू-आवरण को चित्रित करने वाले वनस्पति पुनर्निर्माण की सटीकता पराग उत्पादन, फैलाव और उनके मात्रात्मक जमाव के सावधानीपूर्वक विश्लेषण पर आधारित है। शहीद चंद्र शेखर आज़ाद (एससीएसए) पक्षी अभयारण्य, मध्य गंगा मैदान से 0-10 मीटर (ए), 10-100 मीटर (बी) और 100-1000 मीटर (सी) के अंतराल में तीन स्थानिक क्षेत्रों में, वनस्पति सर्वेक्षण के लिए क्रैकल्स प्रोटोकॉल के माध्यम से पराग-वनस्पति स्पेक्ट्रम के नमूने को एकीकृत किया गया। यह भारत के उष्णकटिबंधीय शुष्क पर्णपाती वन से किया गया प्रथम प्रयास था। पुरावनस्पति एवं पुरापारिस्थितिकी को समझने के लिए पराग-वनस्पति संबंधों को निर्धारित करने की आवश्यकता है। आधुनिक सादृश्य को स्थापित करने के लिए पराग सतह नमूना स्थलों के आसपास मानक वनस्पति सर्वेक्षण अनिवार्य है। इस दृष्टिकोण का अंतर्निहित सिद्धांत इस तथ्य पर आधारित है कि सापेक्ष पराग उत्पादकता (आरपीपी) एक क्षेत्र या बायोम में स्थानिक व लौकिक रूप से स्थिर है। अभयारण्य का वनस्पति सर्वेक्षण इस मूल अध्ययन, क्रैकल्स बेक्वेस्ट प्रोटोकॉल का अभिन्न अंग है, और उत्तरी भारत के उष्णकटिबंधीय से उपोष्णकटिबंधीय वनों में मात्रात्मक पुरापारिस्थितिक व्याख्याओं के लिए सापेक्ष पराग उत्पादकता (आरपीपी) के अनुमान प्राप्त करने के लिए विस्तारित आर-वैल्यू (ईआरवी) मॉडल को चलाने के लिए वास्तविक है।</p> <p>सतह तलछट के नमूनों से आधुनिक पराग जमाव ने <em>अकेसिया, अल्बिजिया</em> और <em>माइमोसा</em> प्रजातियों के साथ-साथ पोएसी (घास) पराग के प्रभुत्व को स्थापित किया है। विभिन्न वनस्पति समुदायों के सर्वेक्षण पर डेटा की मात्रा निर्धारित करने के लिए लागू बहुभिन्नरूपी प्रमुख घटक विश्लेषण (पीसीए) से पता चला है कि चार पहचाने गए वनस्पति समुदायों में से, समुदाय ‘डी’ में <em>एजेरटम, पार्थेनियम, रुमेक्स, टेफ्रोसिया, एक्लिप्टा अल्बा, ऑक्सलिस, कैनाबिस </em>और<em> लाउनिया</em> सहित गैर-वृक्षीय प्रजातियों के समूह शामिल हैं। समुदाय ‘बी’ में मुख्य रूप से ट<em>र्मिनलिया, बैरिंगटोनिया </em>और<em> पोंगामिया</em> जैसी वृक्षीय प्रजातियाँ शामिल हैं, जबकि समुदायों ‘ए’ और ‘सी’ ने पेड़ों, झाड़ियों और जड़ी-बूटियों से युक्त मिश्रित वनस्पति का प्रतिनिधित्व किया। क्रैकल्स बेक्वेस्ट प्रोटोकॉल पद्धति के माध्यम से वर्तमान प्रथम विश्लेषण, मध्य भारत के गंगा के मैदानों में मात्रात्मक 'पराग-आधारित' वनस्पति पुनर्निर्माण स्थापित करने के लिए एक प्रारंभिक कदम है, और अन्य क्षेत्रों में इसी तरह के अध्ययन के लिए यह एक प्रतिमान के रूप में कार्य करेगा। </p> 2022-12-30T00:00:00+0530 Copyright (c) 2022 Journal of Palaeosciences https://jpsonline.co.in/index.php/jop/article/view/1841 Early Ediacaran lichen from Death Valley, California, USA 2022-12-30T15:35:30+0530 Gregory J. Retallack gregr@uoregon.edu <p>Enigmatic tubestones from the basal Ediacaran Noonday Formation of southern California have been interpreted as fluid escape structures or as stromatolites in a “cap carbonate”, created by marine precipitation at the termination of Snowball Earth glaciation. However, doubts about this interpretation stem from permineralized organic structures within the tubes with hyphae and attached spheroidal cells, and thallus organization comparable with lichens. These “tubestones” are here named <em>Ganarake scalaris</em> gen. et sp. nov. The fungus was aseptate as in Mucoromycota and Glomeromycota, and the spheroidal photobiont has the size and isotopic composition of a chlorophyte alga. The tubes are most like modern window lichens (shallow subterranean lichens) and formed nabkhas (vegetation–stabilized dunes) of a loess plateau comparable in thickness and extent with the Chinese Loess Plateau of Gansu. Loess paleosols of three different kinds are recognized in the Noonday Formation from geochemical, petrographic, and granulometric data. The Noonday Formation was not a uniquely Neoproterozoic marine whiting event, but calcareous loess like the Peoria Loess of Illinois and the Chinese Loess Plateau of Gansu.</p> <p><strong>सारांश </strong></p> <p>दक्षिणी कैलिफोर्निया के निचले एडियाकरन नूनडे शैलसमूह से अज्ञात ट्यूबस्टोन की एक "कैप कार्बोनेट" में द्रव पलायन संरचनाओं या स्ट्रोमेटोलाइट्स के रूप में व्याख्या की गई है जो कि स्नोबॉल अर्थ हिमाच्छादन की समाप्ति पर समुद्री वर्षा द्वारा निर्मित हुए। हालांकि, इस व्याख्या के बारे में संदेह, हायफी और संलग्न गोलाकार कोशिकाओं के साथ ट्यूबों के भीतर अश्मीकृत कार्बनिक संरचनाओं से उपजा है और थैलस संगठन लाइकेन के साथ तुलनीय है। इन "ट्यूबस्टोन" को यहाँ <em>गनारके स्केलेरिस</em> नव कुल नव प्रजाति नाम दिया गया है। कवक म्योकोरोमाइकोटा और ग्लोमेरोमाइकोटा के समान अकोष्ठीय और गोलाकार फोटोबियोन्ट की माप और समस्थानिक संरचना क्लोरोफाइट शैवाल जैसी है। ट्यूब अधिकांशतः आधुनिक विंडो लाइकेन (उथले भूमिगत लाइकेन) की तरह हैं और लोएस पठार के नबखास (वनस्पति-स्थिर टीले) बनाते हैं जो कि मोटाई और विस्तार में गांसु के चीनी लोएस पठार के तुल्य हैं । भू-रासायनिक, पेट्रोग्राफिक और ग्रैनुलोमेट्रिक आलेखों से नूनडे शैलसमूह में तीन अलग-अलग प्रकार के लोएस पेलिओसॉल की पहचान की गई है। नूनडे शैलसमूह एक विशिष्ट नियोप्रोटीरोज़ोइक समुद्री श्वेत घटना नहीं था, लेकिन इलिनॉयस के पियोरिया लोएस और गांसु के चीनी लोएस पठार की तरह चूनामय लोएस था।</p> 2022-12-30T00:00:00+0530 Copyright (c) 2022 Journal of Palaeosciences https://jpsonline.co.in/index.php/jop/article/view/1842 The first discovery of mosses (Bryopsida) in the Lower Jurassic of Eastern Siberia 2022-12-30T15:35:20+0530 Andrey O. Frolov frolov88-21@yandex.ru Sergei G. Kazanovsky skazanovsky@mail.ru Ilya V. Enushchenko deschampsia@yandex.ru <p>Most of the known diversity of Jurassic mosses comes from the Upper Jurassic of China, Mongolia, and Asiatic Russia. The Early Jurassic mosses are not known in Siberia. According to the study of shoots of bryophytes from the Prisayan Formation (Early–Middle Jurassic) of the Irkutsk Coal Basin (Eastern Siberia), two new species of mosses are established: <em>Bryokhutuliinia ignatovii</em> sp. nov. and <em>Palaeodichelyma kiritchkovae</em> sp. nov. The stem microstructures of <em>B. ignatovii</em> distinguish it clearly from other representatives of <em>Bryokhutuliinia</em> Ignatov from the Jurassic and Cretaceous of Mongolia and Transbaikalia. <em>P. kiritchkovae</em> is the only known representative preserved with sporophytes of <em>Palaeodichelyma</em> Ignatov &amp; Shcherbakov.</p> <p><strong>सारांश</strong></p> <p>जुरासिक मोसस की अधिकांश ज्ञात विविध प्रजातियाँ चीन, मंगोलिया और एशियाटिक रूस के ऊपरी जुरासिक में पाई जाती है। प्रारंभिक जुरासिक मॉस की खोज साइबेरिया में ज्ञात नहीं है। इरकुत्स्क कोयला द्रोणी (पूर्वी साइबेरिया) के प्रिसायन शैलसमूह (प्रारंभिक-मध्य जुरासिक) से ब्रायोफाइट्स के तने के अध्ययन के परिणामस्वरूप, मोसस की दो नई प्रजातियां स्थापित की गई हैं: <em>ब्रायोखुटुलिनिया</em> <em>इग्नाटोवी</em> (नवप्रजाति) और <em>पेलियोडिचेलेमा</em> <em>किरीचकोवे</em> (नवप्रजाति)। <em>बी.</em> <em>इग्नाटोवी </em>के तने की सूक्ष्म संरचना इसे मंगोलिया और ट्रांसबाइकलिया के जुरासिक और क्रिटेशियस से प्राप्त <em>ब्रायोखुटुलिनिया</em> <em>इग्नाटोव</em> के अन्य प्रतिनिधियों से स्पष्ट रूप से अलग करती है। <em>पी</em><em>.</em><em> किरीचकोवे</em> एकमात्र ज्ञात प्रजाति है जो <em>पेलियोडिचेलेमा</em> इग्नाटोव एवं शेर्बाकोव के स्पोरोफाइट्स के साथ संरक्षित है।</p> <p> </p> 2022-12-30T00:00:00+0530 Copyright (c) 2022 Journal of Palaeosciences